PM Van Dhan Yojana 2020 Details – प्रधानमंत्री वन धन योजना

1
366

मोदी सरकार ने देश के लिए बहुत सारी नई नई योजनाओं का आरंभ किया है। और इसी के तहत मोदी सरकार ने 14 अप्रैल 2018 को डॉ बाबासाहेब आंबेडकर की जयंती पर PM Van Dhan Yojana 2020 यानी प्रधानमंत्री वन धन योजना का शुभारंभ किया था। आपको बता दें – वन धन योजना लगभग 20 साल पहले ही शुरू हो गई थी। लेकिन उस Time वह फेल हो गई थी। लेकिन नरेंद्र मोदी जी ने उसे फिर से एक बार शुरू कर दिया है।

सरकार की सारी योजनाओं का पता हमें होना बहुत जरूरी है। अगर कोई भी योजना हमसे छूट जाती है। तो उसका हमें बहुत ज्यादा नुकसान होता है। इसी के चलते हम अपनी वेबसाइट पर आपको सरकार की नई नई योजनाओं की जानकारी देते हैं। और इसी को आगे बढ़ाते हुए आज इस आर्टिकल में हम आपको PM Van Dhan Yojana 2020 की जानकारी विस्तार पूर्वक बताने वाले हैं।

PM Van Dhan Yojana से जुड़ी हुई सारी छोटी मोटी जानकारी समझने के लिए इस लेख को अंत तक अवश्य पढ़ें।

What Is PM Van Dhan Yojana – प्रधानमंत्री मानधन योजना क्या है?

प्रधानमंत्री मानधन योजना 2020 सरकार ने खासतौर पर आदिवासी लोगों के लिए बनाई हुई योजना हैं। इस योजना के तहत आदिवासी लोगों के वनोपज को सरकार सही से दाम दिलाने की कोशिश करेगी।

इस योजना का मुख्य उद्देश्य आदिवासी लोगों के लिए आजीविका उपलब्ध कराना है। इस योजना से जनजाति के लोगों को सशक्त बनाने की बड़ी मुहिम है।

सरकार इस योजना के तहत वन्य जिलों में वन धन विकास केंद्रों की स्थापना करने वाली है जिसमें लगभग 10 अलग-अलग जनजातीय एजेंसी शामिल हैं।

What Is A Mission Of PM Van Dhan Yojana – प्रधानमंत्री जनधन योजना का मिशन

सरकार ने वन धन योजना शुरू करते ही कुछ मिशन और उसके उद्देश्य भी सामने रखें है – जिसको सरकार पूर्ण करने का Target रखने वाली है। वह उद्देश्य आप नीचे देख सकते –

⏭️ देश में हो रहे पेड़ों की कटाई पर रोक लगाना।

⏭️ वनों का और वन्य जीवों का विकास करना।

⏭️ देश के प्राकृतिक संरक्षण अभियान चलाना।

⏭️ देश के प्राकृतिक संरक्षण हेतु आम लोगों को शिक्षण देना।

⏭️ गैर प्रकार की लकड़ी उत्पादन विकास रोकना।

⏭️ जनजातियों के लिए आजीविका का निर्माण कराना।

⏭️ वन्य जीवन जी रहे लोगों को आर्थिक सशक्ति बनाना।

⏭️ रोजगार की निर्मिती करना।

PM Van Dhan Vikas Kendro Ka Uddesh – प्रधानमंत्री वन धन विकास योजना के उद्देश्य

ऊपर हमने आपको बताया है- वन धन विकास योजना के तहत सरकार देश में कुछ केंद्रों की स्थापना करेगी। उन केंद्रों की स्थापना और उनके काम की सूची आगे आपको बता रहे हैं –

⏭️ PM Van Dhan Yojana का उद्देश्य जन समुदाय को सशक्त बनाना है।

⏭️ गैर लकड़ी से जनजातियों को आजीविका उपलब्ध कराना।

⏭️ जनजाति के किसानों को उनके माल पर उचित और सही दाम देना।

⏭️ हर एक जिले में 1 केंद्र की स्थापना करके लगभग 300 लोगों को प्रशिक्षण तथा आर्थिक मदद देना।

⏭️ ग्राम पंचायत में 20 लोगों को एक ग्रुप में जोड़ना। और 15 जिलों में केंद्र की स्थापना।

⏭️ जंगल के रहने वाले किसानों को ट्रेनिंग लेने के लिए और सामग्री खरीदने और रखने के लिए 30,00000 रुपए तक का लोन उपलब्ध कराना।

⏭️ जंगल से जो भी प्राप्त हुए सम्पदा है। उसे सही कामों में इस्तेमाल करना

Implementations Of PM Van Dhan Vikas Yojna 2020

Pm Van Dhan Yojana 2020 उन राज्यों में है। जिन राज्य में अनुसूचित क्षेत्र और अनुसूचित आदिवासी रहते हैं। उनकी लिस्ट आपको आगे बता रहे हैं – त्रिपुरा, अंदमान निकोबार, मध्य उत्तर प्रदेश, कर्नाटक, झारखंड, छत्तीसगढ़, गोवा, गुजरात, जम्मू कश्मीर, आंध्र प्रदेश, हरियाणा, दादर और हवेली, पश्चिम बंगाल,ओरिसा, त्रिपुरा, महाराष्ट्र, मेघालय, बिहार, असम, नीगोलैंड, लक्ष्यद्वीप, पुदुचेरी, उत्तराखंड, राजस्थान, सिक्किम, दमन और दिव,


Conclusion –

यहां पर हमने आपको PM Van Dhan Yojana 2020 की पूरी जानकारी बताइ है। इसके साथ ही प्रधानमंत्री वन धन योजना 2020 क्या है? पूरी हिंदी में जानकारी बताइए।

यहां पर बताई गई जानकारी के अलावा भी अगर आपको PM Van Dhan Yojana 2020 से जुड़ी कोई भी जानकारी हो। तो आप हमारे साथ कमेंट करके शेयर कर सकते हैं।

इसके अलावा वन धन योजना से जुड़ी और भी कोई जानकारी अगर आप चाहते हैं तो भी कमेंट करके आप पूछ सकते हैं इसके साथ ही आप इस आर्टिकल को अपने दोस्तों और परिजनों के साथ भी शेयर करें।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here